Latest Qualification Jobs

भारतीय संविधान अनुसूचियाँ | सभी 12 की TRICK से 5 मिनट में याद करे

भारतीय संविधान अनुसूचियाँ

भारतीय संविधान अनुसूचियाँ :- दुनिया के सबसे लंबे लिखित संविधान में 22 भागों में 395 लेख थे और प्रारंभ के समय 8 अनुसूचियां थीं। अब भारत के संविधान में 25 भागों और 12 अनुसूचियों में 448 लेख हैं। भारतीय संविधान में अब तक बनाए गए लोकसभा और राज्यों की विधानसभाओं में एससी और एसटी के लिए सीटों के आरक्षण को बढ़ाने के लिए 104 संशोधन (25 जनवरी 2020 को हुए हैं). यह लेख आपको भारतीय संविधान की अनुसूचियों की एक सूची प्रदान करेगा, जो भारतीय राजनीति (Mains GS-II) के परिप्रेक्ष्य से IAS परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण है। सभी भारत की 12 संविधान अनुसूचियाँ  एक ही TRICK से 5 मिनट में याद करे

recruitmentresult.com

8 जनवरी, 2019 को सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री श्री थावर चंद गहलोत द्वारा लोक सभा में संविधान (एक सौ चौदहवाँ संशोधन) विधेयक, 2019 पेश किया गया था। यह विधेयक “आर्थिक रूप से उन्नति” प्रदान करने का प्रयास करता है। नागरिकों का कमजोर वर्ग। उम्मीदवारों को भारतीय संविधान के अनुसूचियों से संबंधित संवैधानिक लेखों के बारे में भी जानना चाहिए। यह उन्हें अवधारणाओं की स्पष्टता देगा और उन्हें महत्वपूर्ण लेखों के कालक्रम को समझने में मदद करेगा।

Aspirants who are preparing for competitive examinations and want to know about 12 Schedules of Indian Constitution, they are on the right page. This post of recruitmentresult.com will provide you complete details about Schedules of Indian Constitution and its quick trick to learn and remember details about it.

भारतीय संविधान अनुसूचियाँ

भारतीय संविधान 22 भागों में विभजित है तथा इसमे 395 अनुच्छेद एवं 12 अनुसूचियां है ।

भारतीय संविधान के महत्वपूर्ण अनुच्छेद

अनुच्छेदमहत्ता
अनुच्छेद 12 –35मूलभूत अधिकारों का विवरण
अनुच्छेद 36-50राज्य की नीति के निदेशक तत्व
अनुच्छेद 51Aप्रत्येक नागरिक के मूल कर्तव्यों का विवरण
अनुच्छेद 80राज्यसभा की सरंचना
अनुच्छेद 81लोकसभा की सरंचना
अनुच्छेद 343राजभाषा के रूप में हिन्दी
अनुच्छेद 356राज्यों में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने के विषय मे
अनुच्छेद 368संविधान का संशोधन
अनुच्छेद 370जम्मू और कश्मीर के सम्बंध मे उपबंध
अनुच्छेद 395भारत स्वतंत्रता अधिनियम और भारत सरकार अधिनियम, 1935 का निरसन

You Can Also Check: List of Important Days in 2020

भारतीय संविधान की अनुसूचियाँ

अनुसूचियाँ 1 – 12
प्रथम अनुसूची राज्यों और संघ राज्य क्षेत्रों का वर्णन
दूसरी अनुसूची राष्ट्रपति , राज्यों के राज्यपाल, लोकसभा के अध्यक्ष तथा उपाध्यक्ष, राज्य सभा के सभापति तथा उप-सभापति, विधान सभा के अध्यक्ष तथा उपाध्यक्ष, विधान परिषद के सभापति तथा उप-सभापति, उच्चतम तथा उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों एवं भारत के नियंत्रक महालेखापरीक्षक के सम्बंध में उपबंध
तीसरी अनुसूची शपथ या प्रतिज्ञान के प्ररूप ।
चौथी अनुसूची राज्य सभा में सीटों का आबंटन ।
पांचवीं अनुसूची अनुसूचित क्षेत्रों और अनुसूचित जनजातियों के प्रशासन और नियंत्रण के बारे में उपबंध ।
छठी अनुसूची असम, मेघालय, त्रिपुरा और मिजोरम राज्यों में जनजातीय क्षेत्रों के प्रशासन के बारे में उपबंध ।
सातवीं अनुसूची संघ सूची, राज्य सूची और समवर्ती सूची ।
आठवीं अनुसूची मान्यता प्राप्त भाषाओं की सूची ।
नौवीं अनुसूची विशिष्ट अधिनियमों और विनियमों के सत्यापन के प्रावधान ।
दसवीं अनुसूची दल परिवर्तन के आधार पर निरर्हता के बारे में उपबंध ।
ग्यारहवीं अनुसूची पंचायतों के अधिकार, प्रधिकार और दायित्व ।
बारहवीं अनुसूची नगरपालिकाओं की के अधिकार, प्रधिकार और दायित्व ।

भारतीय संविधान की अनुसूची नीचे दी गई है। प्रतियोगी परीक्षाओं की बेहतर तैयारी के लिए आप उन्हें पढ़ और समझ सकते हैं।

पहली अनुसूची

  • यह अनुच्‍छेद 1 और अनुच्‍छेद 4 की व्‍याख्‍या है। इसमें 28 राज्‍यों और 7 संघ राज्‍य क्षेत्रों का विवरण है।

दूसरी अनुसूची

इसमें उच्‍च संवैधानिक पदों जैसे राष्‍ट्रपति, राज्‍यपाल, लोक सभा के अध्‍यक्ष एवम् उपाध्‍यक्ष, राज्‍य सभा के सभापति एवम् उपसभापति, राज्‍य विधानसभाओें के अध्‍यक्ष एवम् उपाध्‍यक्ष, राज्‍य विधान परिषदों के सभापति और उपसभापति, उच्‍च न्‍यायालयों एवं उच्‍चतम् न्‍यायालय के न्‍यायाधीशों, नियंत्रक-महालेखा परीक्षक आदि के वेतन व भत्‍तों का विवरण है।

तीसरी अनुसूची

  • इसमें उच्‍च संवैधानिक पदों के लिए पद एवम् गोपनीयता के शपथ का प्रारूप विद्यमान है।
  • विभिन्‍न पदों के लिए शपथ के भिन्‍न प्रारूप के कारण :
    • संविधान, विभिन्‍न संवैधानिक पदों को भिन्‍न-भिन्‍न कृत्‍यों का दायित्‍व सौंपता हैं, अत: उन्‍हें भिन्‍न प्रारूपों में शपथ लेनी होती है। उदा‍हरण के लिए राष्‍ट्रपति को संविधान के परीरक्षण (Preserve), संरक्षण (Conserve) और प्रतिरक्षण (Defend) का उत्‍तरदायित्‍व है, जबकि संघ के मंत्रियों को संविधान के प्रति सच्‍ची श्रद्धा और निष्‍ठा तथा भारत की प्रभुता और अंखडता अक्षुण्‍ण रखने की शपथ लेनी होती है।
    • कुछ संवैधानिक अधिकारियों, जैसे-राष्‍ट्रपति, राज्‍यपाल तथा संघ एवम् राज्‍य के मंत्रियों के पास राज्‍य के बारे में गोपनीय जानकारियाँ होती हैं और उन्‍हें पद की शपथ के साथ-साथ गोपनीयता की भी शपथ लेनी होती है।
    • संविधान एक वरीयता क्रम सृजित करता है। इस तरह यह राष्‍ट्रपति, उप-राष्‍ट्रपति और राज्‍यपाल के लिए शपथ का प्रारूप मुख्‍य संविधान में शामिल करता है, जबकि अन्‍य पदों के लिए यह अनुसूची में दिया हुआ है।

चौथी अनुसूची

  • राज्‍य सभा में विभिन्न राज्‍यों के लिए सीटों का आवंटन।

पांचवी अनुसूची

  • अनुसूचित क्षेत्रों एवं अनुसूचित जातियों के प्रशासन तथा नियंत्रण से संबंधित उपबंध।

छठी अनुसूची

  • असम, मेघालय, मिजोरम और त्रिपुरा के प्रशासन से संबंधित उपबंध।

सातवीं अनुसूची

  • इसमें संघ सूची , राज्‍य सूची और समवर्ती सूची के विषय का उल्‍लेख किया गया है।

संघीय सूची के प्रमुख विषय:

  • रक्षा, सशस्‍त्र बल व आयुध
  • केंद्रीय सूचना व अन्‍वेषणब्‍यूरो
  • रेल, वायु मार्ग, राष्‍ट्रीय राजमार्ग व जलमार्ग
  • मुद्रा
  • जनगणना
  • परमाणु ऊर्जा
  • विदेश संबंध व संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ
  • डाक, टेलीफोन आदि संचार के साधन
  • राष्‍ट्रीय महत्‍व की घोषित कोई संस्‍था
  • अखिल भारतीय सेवाएँ

राज्‍सूची के प्रमुख विषय

  • लोक व्‍यवस्‍था, सामान्‍य व रेल पुलिस
  • उच्‍चतम न्‍यायाल से भिन्‍न न्‍यायालय
  • बाजार व मेले
  • लोक स्‍वास्‍थ्‍य, स्‍वच्‍छता, अस्‍पताल
  • स्‍थानीय शासन
  • कृषि, कृषि शिक्षा और अनुसंधान

समवर्ती सूची के प्रमुख विषय

  • दंड विधि व दंड प्रक्रिया संहिता
  • उच्‍चतम न्‍यायालयसे भिन्‍न किसी न्‍यायालय का अवमान
  • जनसंख्‍या नियंत्रण व परिवार नियोजन
  • सिविल प्रक्रिया संहिता
  • पशुओं के प्रति क्रूरता
  • वन

आठवीं अनुसूची

इसमें भारत की 22 भाषाओं का उल्‍लेख किया गया है:

  • असमिया
  • बंग्‍ला
  • गुजराती
  • हिन्‍दी
  • कन्‍नड़
  • कश्‍मीरी
  • कोंकणी
  • मलयालम
  • मणिपुरी
  • मराठी
  • नेपाली
  • उडि़या
  • पंजाबी
  • संस्‍कृत
  • सिन्‍धी
  • तमिल
  • तेलगू
  • उर्दू
  • बोडो
  • मैथिली
  • संथाली
  • डोगरी

Note – मूल संविधान में कुल 14 भाषाएँ थीं। 1967 में सिन्‍धी, 1992 में कोंकणी मणिपुरी, नेपाली, 2003 में मैथिली, संथाली, डोगरी व बोडो को संविधान की आठवी अनुसूची में शामिल किया गया।

नवीं अनुसूची

इस अनुसूची के अंतर्गत आने वाले अनुच्‍छेदों एवं कानूनों को न्‍यायिक समीक्षा के दायरे से अलग रखा गया है। इस अनुसूची में मुख्‍यत: भू-सुधार एवं अधिग्रहण संबंधी कानूनों को रखा गया है।

दसवी अनुसूची

इसमें दल-बदल से संबंधित प्रावधानों का उल्‍लेख है।

ग्‍यारहवी अनुसूची

इस अनुसूची के आधार पर ‘पंचायती राजव्‍यवस्‍था’ को संवैधानिक दर्जा प्रदान किया गया है। इसमें 29 विषय हैं। इस अनुसूची को 73वें संविधान संशोधन अधिनियम, 1992 द्वारा जोड़ा गया।

बारहवी अनुसूची

इस अनुसूची के आधार पर शहरी क्षेत्र की स्‍थानीय स्‍वशासन संस्‍थाओं का उल्‍लेख कर उन्‍हें संवैधानिक दर्जा प्रदान किया गया है। इसमें 18 विषय हैं। इस अनुसूची को 74वें संविधान संशोधन अधिनियम, 1992 द्वारा जोड़ा गया।

सभी 12 अनुसूचियों को 5 मिनट में  याद करने की अनोखी ट्रिक

TRICK-सर राजभवन पे पद की शपथ लेने से आज TARA (तारा) MAMI (मामी) और सरस्वती के भाषण से बदल गया है पंच नगर”

Note:  एक लड़का अपने सर से कह रहा है की उनके गाँव पंच नगर की 2 महिलाएं जिसमे से एक महिला उसकी मामी है दोनों चुनाव जीत गयी है और उन्होंने  अपने पद की शपथ राजभवन में ली है गाँव के सभी लोग वहाँ मौजूद थे उन  दोनों के भाषण से सभी गाँव वाले इतने प्रभावित हुए की उन्होंने खुद को सकारात्मक दिशा में बदल लिया। अब आप इस ट्रिक को एक बार पुनः पढ़े समझ में आ जायेगी।

Those candidates who are preparing for competitive examinations like Bank, Railway, SSC and Other this information is very helpful for them. You can also bookmark our page using Ctrl+D for more information about 12 Schedules Of Indian Constitution.

Something That You Should Put an Eye On

Person in news Current AffairsInternational Current Affairs
All Defence Current AffairsPublic Holidays in India
Current Affairs New AppointmentsLatest Current Affairs
Science & TechnologySports Current Affairs

Filed in: Tricks

Leave a Reply

Submit Comment